Photos

Photographer's Note



माँ का आँचल -- राम बाबू सिन्ह्



कष्टदायी प्रसव पीड़ा , मातृत्व स्नेह के लिए
सिर्फ और सिर्फ माँ ही कर सकती है |

अपनी शरीर के लहू से हमें सींचती ,
वगैर कोई परवाह किए ,
आने वाले संतान के
सुख पर सब कुछ न्योछावर
सिर्फ और सिर्फ माँ ही कर सकती है |

निस्वार्थ प्रेम निर्मल ममता
विराट ह्रदय ,सुख समृधि बरसाती
देवी स्वरूपा , ज्ञानमयी ,पवित्रता के प्रतीक
गुलाब की पंखुड़ियों की तरह
कठिन परिस्थितियों में भी मुस्कराती
आँचल में समेटकर ,रात को लोरी सुनाती
सिर्फ और सिर्फ माँ ही कर सकती है |

आँखों में शीतलता ,चेहरे में गंभीरता
ह्रदय में सहिष्णुता ,बातों में मधुरता
आँचल जैसे सम्पूर्ण आकाश की छत्रछाया
माँ श्रृष्टि का एक मात्र सच ,जो इश्वर के समकक्ष है |
इश्वर तो अदृश्य है पर माँ मानस पटल पर सदा बिचरण करती है
वो मानो ह्रदय में निवास करती है |
संकट से परे ,वो अपने हित की नहीं
अपने लाडले के भविष्य की सोचती
ऐसा सिर्फ और सिर्फ माँ ही कर सकती है |

parbo, MiguelP, coco, pitai, cengiz, Emile, rtome, calimex, pebbles, noborders, rginer has marked this note useful

Photo Information
Viewed: 10352
Points: 75
Discussions
Additional Photos by Francisco Romero Cid (quillo) Gold Star Critiquer/Gold Star Workshop Editor/Gold Note Writer [C: 2087 W: 415 N: 1878] (11858)
View More Pictures
explore TREKEARTH